लोगों के चेहरे पर प्रसन्नता देख, मिलता है संतोष: मुख्यमंत्री बघेल*

रायपुर, 24 मई 2022/मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने भेंट-मुलाकात अभियान के तहत आज चित्रकोट विधानसभा के ग्राम उसरीबेड़ा में लोगों से मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने कहा कि लोगों के चेहरे पर प्रसन्नता देख उन्हें संतोष की अनुभूति होती है। वे भेंट-मुलाकात के दौरान सरकार की योजनाओं का लाभ मिल रहा है या नहीं यह जानने आए हैं। योजनाओं का मैदानी स्तर पर क्रियान्वयन की जानकारी लेना ही इस अभियान का मुख्य उद्देश्य है। मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों की मांग पर उसरीबेड़ा में आदिवासी समाज के लिए भवन, चित्रकोट पुलिस चौकी के सामने डॉ. भीमराव अम्बेडकर के प्रतिमा की स्थापना, लोहंडीगुड़ा में नया कालेज, ककनार में नया स्कूल और नया धान खरीदी केंद्र खोलने की घोषणा की। साथ ही आस-पास के गांवों में पेयजल की समस्या के निराकरण के लिए अधिकारियों को निर्देश दिए। वे आज उसरीबेड़ा में आम के पेड़ की छांव में छिंद के पत्ते और बांस से बने छ्प्पर के नीचे ग्रामीणों से मुलाकात कर रहे थे।

मुख्यमंत्री ने भेंट-मुलाकात के दौरान चित्रकोट निवासी गेड़ी नृत्य करने वाले श्री सहदेव पटेल को नृत्य समूह के परिधान के लिए उदारतापूर्वक 01 लाख रुपये देने की घोषणा की। सहदेव ने कहा- नायक फ़िल्म तो फ़िल्म है आप छत्तीसगढ़ के असली हीरो हैं। प्रेमनाथ सेठिया ने बताया कि डेढ़ लाख रूपए का कृषि ऋण माफ हुआ है और राजीव गांधी किसान न्याय योजना से 79 हज़ार रूपए मिला है, जिससे उन्होंने कृषि कार्य के लिए थ्रेशर खरीदा है। इसी गांव के रत्तू राम ने मुख्यमंत्री को धन्यवाद देते हुए बताया कि उसे कर्ज से मुक्ति मिल गई है। उनका कृषि ऋण 1,05,151 रूपए माफ हो गया है। इसी प्रकार कुंती मोहरे ने बताया कि अब उसे गोबर संग्रह करने से भी पैसा मिलने लगा है। उसने चित्रकोट गौठान में 30 हजार रूपए से अधिक का गोबर बेच चुकी है। इसी तरह नीतू राज ने बताया कि उनकी मां के नाम से बने राशन कार्ड से चावल मिल रहा है। इस पीडीएस योजना से गरीब लोगों को बहुत मदद मिल रही है। मधु कश्यप ने बताया कि उनके मां दुर्गा स्व-सहायता समूह को शासन की योजना के तहत कृषि यंत्र मिला है। जिससे वे किराये पर देकर 10-12 हज़ार महीना कमा रहे हैं। 

भेंट-मुलाकात के दौरान ग्रामीणों ने बताया कि पारापुर पंचायत के गौठान में दो माह से पैसा नहीं मिला है, गौठान चलाने में दिक्कत आ रही है। इस पर मुख्यमंत्री ने संज्ञान लेते हुए कलेक्टर को प्रकरण की जांच कर आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए। ग्राम बदरेंगा में पेयजल की समस्या के निराकरण के लिए मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों को नल-जल योजना से पानी पहुंचाने का आश्वासन दिया।